Monday, October 8, 2018

How to Make Remote Control Aeroplane in Hindi

                     




How to Make Remote Control Aeroplane in Hindi



Hello Friends  

                  Remote Control Aeroplane घर पर ही आसानी से बनाया जा सकता है। और इसे बनाने के लिए बहुत ज्यादा इंजिनियरिंग की आवश्यकता नही होती है। इसे बनाने के लिए आवश्यक सामग्री भी Online Shopping Store पर आसानी से मिल जाती है।        
                  दोस्तों How to Make Remote Control Aeroplane in Hindi इस विषय मे इंटरनेट पर जानकारी काफी कम है। इसलिए यह ब्लॉग खासकर उन लोगों के लिए है जो रिमोट कंट्रोल एयरप्लेन के शौकीन हैं और इसे स्वयं घर पर बनाना चाहते हैं पर इंटरनेट पर जानकारी Hindi मे नही होने की वजह से दिक्कत महसूस करते हैं। तो चलिए दोस्तों शुरू करते हैं How to Make Remote Control Aeroplane in Hindi


Picture 1.0 


This is Remote Control Aeroplane





          वैसे तो Remote Control Aeroplane कई प्रकार के होते है। जैसे ट्रेनर, एरोबेेेेटिक/स्पोर्ट्स, रेसर, ग्लाईडर एवंं जेट्स। इसमे से ट्रेनर एयरप्लेन का डिजाइन सरल होता है। Beginners के लिए यह बहुत सही होता है। इसे कंट्रोल करना आसान होता है। इसलिए आज इस ब्लाग मे हम ट्रेनर  Rc Plane के बारे मे बताने जा रहे हैं। इसे बनाने से पहले आपको यह जानना ज़रूरी है कि Rc Plane के पार्टस और कंंट्रोल्स कितने प्रकार के होते हैं और किस तरह से काम करते हैं। 



Working Parts And Controls Of Aeroplane




  • Fuselage  यह प्लेन का मुुुुख्य भाग होता है, इसमे एयरप्लेन के सारे पार्टस और कंंट्रोल्स जुड़े होते हैं। इसे एयरप्लेन की Body कहा जाता है।
  • Wing  यह प्लेन का सबसे बड़ा हिस्सा होता है। जिसकी वजह से एयरप्लेन हवा मे उड़ान भरता है।
  • Propeller  यह मोटर से जुड़ा होता है और जब मोटर घूमती है तो प्रोपेलर हवा को काटकर थ्रस्ट पैदा करता है। जिससे एयरप्लेन को गति मिलती है।
  • Stabilizers  यह दो प्रकार के होते हैैं। Horizontal and vertical यह एयरप्लेन को स्थिरता प्रदान करते हैं। 
  • Elevator  यह Horizontal stabilizer से जुड़ा होता है। इसको ऊपर नीचे करके प्लेन को ऊपर या नीचे किया जाता है।
  • Rudder   यह Vertical stabilizer से जुुुड़ा होता है। इसे दाएं बाएं मोड़कर एयरप्लेन को दाहिने या बाएं मोड़ा जाता है।
  • Aileron यह एयरप्लेन के पंख के पिछले सिरे मे होता। इसका कार्य प्लेन के झुकाव को नियंत्रित करने मे होता है।




Picture 2.0




Picture of Aeroplanes Controls and Parts


     Aeroplane के इन पार्टस को कंट्रोल करने लिए आवश्यकता होती है कुछ इलेक्ट्रॉनिक पार्टस की। Remote Control Aeroplane बनाने के लिए जिन सामग्री की आवश्यकता होती है, वो आप आसानी से Online Shopping Store से खरीद सकते हैं।



Materials You Need 




  • 1 ब्रशलेस मोटर ( 1400 kv )
  • 1 प्रोपेलर ( 10 inches ) 
  • 2 मिनी सर्वो मोटर ( 9 grams ) 
  • 1 ईएससी ( electronic speed controller )
  • 1 लिपो बैटरी ( 11.1v , 1500mah )
  • 1 रेडियो कंट्रोलर ( flysky fs-i6 transmitter )
  • 1 रेडियो रिसीवर ( fs-iA6 )
  • 2 स्टायरोफोम शीट
  • कुछ वायर एवं कनेक्टर्स 
  • हाॅट ग्लू गन
  • ग्लू , टेप , कनेक्टिंग राड , स्क्रू




Picture 3.0



Picture of Electronic Parts of Rc Plane



Dimension & Measurements 




                 अब आप को आगे बताए जाने वाले Dimension & Measurements के अनुसार फ्यूसलाज, विंग, स्टेब्लाईजर्स इत्यादि के लिए स्टायरोफोम शीट की कटिंग करनी है। पर इन सारे पार्टस को असेेंबल करने से पहले इन के आकार एवं माप के बारे मे भी जानकारी होनी आवश्यक है। 



Wing - विंग या पंंख की लंबाई को Wing Span कहते हैैं। और विंग की चौड़ाई को Chord कहते हैैं। पंंख का अगला भाग जो प्लेन के Nose की ओर होता है इसे Leading Edge कहते हैैं। और जो भाग टेेल की तरफ होता है उसे Trailing Edge कहते हैैं। Leading EdgeTrailing Edge से मोटा और गोलाई  दार होता है। Trailing Edge पतला और नोकदार होता है। 


Picture 4.0              


Picture of Rc Plane Wing


             

              ट्रेनर Aeroplane और 1400kv motor के लिए 30 इंच से 36 इंच का विंग स्पान सही होता है। हम यहां 36 इंच का विंग स्पान लेंगे तब Wing Chord 6.5 इंच होगा यानी Wing Span का 5.5 वां भाग। विंग की मोटाई 1 इंच तक होनी चाहिए । चित्र 4.0 के अनुसार फोम को कटर से काटकर विंग का शेप देने के बाद सैंड पेपर से घिसकर Aerodynamic  बना लें।



Fuselage - Fuselage की लंबाई Wing Span की 75% होती है। अतः फ्यूसलाज की लंबाई होगी 27 inches. फ्यूसलाज की नोज़ Wing Span की लंबाई का 15% होना चाहिए । तो हम नोज़ 5.5 inches रख सकते हैं। फ्यूसलाज की ऊंचाई इसकी लंबाई की 15% होती है अतः फ्यूसलाज की ऊंचाई 4 इंच रखें। फ्यूसलाज के टैल की लंबाई  ( विंग के अगले सिरे से Horizontal stabilizer के अगले सिरे तक ) Wing chord की लंबाई का 3 गुना होता है। अतः टैल की लंबाई 19.5 इंच रखें। चित्र 5.0 के अनुसार फ्यूसलाज के लिए स्टायरोफोम की शीट के दो टुकड़े काट लें ।


Picture 5.0


Picture of Fuselage Measurements




Horizontal Stabilizer  - Horizontal stabilizer  का सरफेस एरिया ( लं×चौ )  विंग के एरिया का 25% होता है। विंग एरिया 36×6.5 =234 स्कवेयर इंच अतः Horizontal stabilizer का एरिया = 58.5 स्कवेयर इंच। होरिजोन्टल स्टेब्लाईजर्स की लंबाई और चौड़ाई का Aspect Ratio 3:1 होता है। इसलिए लं. =13.25 और चौ. = 4.40 रखें। इसे भी सैंड पेपर से घिसकर Aerodynamic बना लें।


Elevator - Elevator का कुल एरिया, Horizontal stabilizer  के कुल एरिया का 25% होता है। इसकी लंबाई Horizontal stabilizer  के बराबर होती है। इसलिए इसकी चौड़ाई  1.10 इंच होगी। Elevator  को चित्र 6.0 के अनुसार Horizontal stabilizer  से टेप से जोड़ दें ताकि Elevator  आसानी से ऊपर नीचे मूव कर सके।


Picture 6.0


Picture of Rc Planes Elevator and Horizontal Stabilizer





Vertical Stabilizer  - Vertical stabilizer  का सरफेस एरिया विंग के सरफेस एरिया का 10%  होता है। इसलिए Vertical stabilizer  का सरफेस एरिया 23.4 स्कवेयर इंच रखें। यह नीचे से चौड़ा और ऊपर सकरा होता है। 

Rudder - Rudder का सरफेेेस एरिया Vertical stabilizer  के सरफेस एरिया का 25% होता है । अतः इसका सरफेेेस एरिया 5.85 स्कवेयर इंच रखेें। ध्यान रहे इसकी ऊंचाई Vertical stabilizer  के बराबर रहनी चाहिए ।



Picture 7.0

Picture of Rc Planes Rudder and Vertical Stabilizer





Cutting Pasting & Assembling 




         अब Measurement के अनुसार सारे पार्टस की कटिंग करने के बाद, सबसे पहले फ्यूसलाज के दो बराबर टुुुुकड़ों को समानांतर इस प्रकार रखेें कि उनके बीच 4 इंच का फासला हो। इसे स्टायरोफोम शीट एवं हाॅट ग्लू गन की मदद से नीचे से पैैक कर लेें। इसके बीच की खाली जगह BATTERY, ESC, रिसीवर वगैरह को रखने के काम आएगी।

          इसके बाद एलीवेटर को होरिजोन्टल स्टेब्लाईजर से टेेप के द्वारा जोड़ लेें इनके बीच बिल्कुल ज़़रा सा गैैप रखेें ताकि एलीवेटर आसानी से ऊपर नीचे मूव कर सके । अब होरिजोन्टल स्टेब्लाईजर को फ्यूसलाज की टैैल पर माप कर हाट ग्लू गन से चिपका देें। ध्यान रखेें एलीवेटर FUSELAGE से ना चिपकने पाए। इसी तरह से वर्टिकल स्टेब्लाईजर और रडर को आपस मे टेप से जोड़ दें फिर वर्टिकल स्टेब्लाईजर को फ्यूसलाज पर हाट ग्लू गन की मदद से चिपका देें। इस बात का ध्यान रखें कि एलीवेटर की तरह रडर भी फ्यूसलाज से ना चिपकने पाए। और आसानी से दाएं बाएं मूव कर सके।   

            लैंडिंग गेयर के लिए 3 इंच Diameter के दो पहिए कार्डबोर्ड या स्टायरोफोम शीट के काट लें। इन्हे स्पोक या मोटे तार द्वारा विंग के नीचे फ्यूसलाज से जोड़ दें। पहिए स्पोक मे स्वतंत्र रूप से घूमने चाहिए। इस तरह एयरप्लेन का ढांचा लगभग तैयार हो चुका है।   


              मोटर को फ्यूसलाज मे जोड़ने के लिए 2×2 इंच का कार्डबोर्ड का टुकड़ा काट लें। इस टुकड़े पर BRUSHLESS MOTOR को स्क्रू की मदद से कस लें। और इसे फ्यूसलाज की नोज़ पर हाॅट ग्लू गन की सहायता से चिपका देवें। मज़बूती के लिए कार्डबोर्ड एवं फ्यूसलाज के बीच की खाली जगह को स्टायरोफोम के टुकड़ों एवं ग्लू से अच्छी तरह चिपका देवें। मोटर के तारों को फ्यूसलाज के बीच की खाली जगह ( कार्डबोर्ड के पीछे ) मे रखें। 



Picture 8.0



Picture of Rc Planes Fuselage and Brushless Motor

       
                सर्वो मोटर को रडर और एलीवेटर से जोड़ने के लिए फ्यूसलाज के टैल एरिया मे एक खांचा काट कर सर्वो मोटर को इस प्रकार चिपकाएं कि उसका घूमने वाला सिरा ही बाहर रहे । अब सर्वो मोटर मे सर्वो हार्न लगाकर उसमे स्पोक फसाकर स्पोक को एलीवेटर तक की लंबाई मे काट लें। एलीवेटर मे एक हार्न अच्छी तरह चिपका कर स्पोक का दूसरा सिरा उसमे फसा दें। 


                 इसी तरह रडर के लिए भी दूसरी सर्वो की फिटिंग कर लेवें। समझने के लिए चित्र देखें।



Picture 9.0



Picture of Rc Planes Servo



                 अब आप को इन सारे Electronic Parts को आपस मे कनेक्ट करना है। चित्र 10.0 के अनुसार इन्हे कनेक्ट करने के बाद बैटरी ईएससी एवं रिसीवर को फ्यूसलाज की खाली जगह जहां विंग लगाया जाएगा वहां टेप की सहायता से चिपका दें।   


Picture 10.0


Rc Plane Wiring Diagram



             विंग को डायरेक्ट फ्यूसलाज मे ग्लू से ना चिपकाएं बल्कि इसे रबर बैंड की सहायता से फ्यूसलाज पर निर्धारित स्थान पर लगाएं ताकि जब बैटरी को चार्ज करना हो तब आप आसानी से इसे निकाल सकें। ऐसा करने के लिए विंग के लीडिंग एज से एक इंच आगे एक टूथपिक या कोई लकड़ी की पतली सी डंडी फ्यूसलाज के आरपार घुसा दें इसकी लंबाई लगभग 6 इंच रखें ताकि फ्यूसलाज के लेफ्ट एवं राईट दोनो ओर एक एक इंच बाहर निकली रहे।


                   अब बिलकुल ऐसा ही विंग के ट्रैलिंग एज से एक इंच पीछे भी फ्यूसलाज पर एक टूथपिक लगा लें । अब विंग को फ्यूसलाज के ऊपर निर्धारित स्थान पर रख कर अगली टूथपिक के राईट वाले छोर पर  रबर बैंड का एक सिरा फसाकर उसे विंग के ऊपर से लेकर पिछली टूथपिक के  लेफ्ट वाले सिरे मे फसा दें। और ऐसे ही दूसरा रबर बैंड को अगली टूथपिक के लेफ्ट सिरे मे फसाकर विंग के ऊपर से लेते हुए पिछली टूथपिक के राईट वाले सिरे मे फसा दें । इस प्रकार विंग फ्यूसलाज मे टैमपररी तौर से फिक्स हो जाएगा।


Balancing Of Remote Control Aeroplane 



          किसी भी Rc Plane को हवा मे बने रहने के लिए उसका बैलेन्स्ड रहना बहुत जरूरी होता है। अगर Remote Control Aeroplane को प्रापर  Balance ना किया गया तो वो हवा मे गोते लगाने लगेगा और जमीन पर आ गिरेगा। एयरप्लेन को बैलेंस करने का एक आसान तरीका यह है कि प्लेन के विंग के अगले सिरे यानी लीडिंग एज से 2 या 2.5 इंच पीछे एयरप्लेन का Centre Of Gravity पाॅईंट होता है। इस पाईंट पर विंग के दोनो छोर पर एक एक पिन लगा दें। एक धागे से दोनो पिन को बांध लें। अब धागे के बीच ऊंगली डालकर इसे ऊपर उठाएं। अब Aeroplane हवा मे धागे की सहायता से लटकने लगेगा। इसे एक हाथ से स्थिर करें। और ध्यान से देखें प्लेन का झुकाव किस ओर है। अगर प्लेन आगे की ओर झुक रहा हो तो बैटरी को थोड़ा सा पीछे खिसका कर फिर से बैलेंस देखें। इसी तरह प्लेन का झुकाव जिस ओर भी हो उसके विपरीत भार देकर इसे पूरी तरह बैलेंस कर लें। प्लेन की नोज़ और टैल और विंग के दोनो सिरे एक लेवल पर हो जाने तक एडजस्ट करते रहें। 

              Remote Control Aeroplane की बैलेंसिंग करने के बाद बैटरी, रिसीवर एवं ईएससी को फ्यूसलाज के बीच की खाली जगह मे डबल साइडेड टेप से चिपका दें। 

                रेडियो रिमोट कंट्रोलर की लेफ्ट साईड की जाॅय स्टिक को ऊपर करने पर Rc Plane के मोटर की स्पीड बढ़ती जाएगी एवं उसी स्टिक को दाएं बाएं करने पर रडर दाएं बाएं मूव होगा जिसकी वजह से एयरप्लेन हवा मे दाएं बाएं मुड़ेगा। इसी तरह रिमोट कंट्रोल की राईट साईड की जाएॅ स्टिक को ऊपर नीचे करने पर प्लेन का एलीवेटर ऊपर नीचे होगा जिसकी वजह से Rc Plane ऊपर नीचे मूव होगा।


            दोस्तों How to Make Remote Control Aeroplane in Hindi पर यह ब्लॉग आपको कैसा लगा? और यदि इस ब्लॉग मे कोई  कमी हो या आप अपना सुझाव देना चाहें तो कृपया कमेंट बाक्स मे कमेंट कर के ज़रूर बताएं। और अपने Facebook Twitter और Whatsapp पर Share  ज़रूर करें।


नोट :- 
  • मोटर के घूमने की दिशा बदलने के लिए मोटर की तीन तारों मे से किन्ही भी दो तारों को आपस मे बदल दें।
  • ट्रेनर एयरप्लेन मे एईलरान की आवश्यकता नही होती इसलिए इसे बनाने के बारे मे नही बताया गया है।
  • जब बैटरी को उपयोग मे नही लाया जा रहा हो तब इसका वोल्टेज 3.8 वोल्ट तक लाकर इसे सूखे स्थान पर रखें। अन्यथा यह धीरे धीरे फूलकर खराब हो जाएगी।
  • रिसीवर मे सर्वो  एवं ईएससी की पिन लगाते समय पोलेरिटी ( + , - ) का ध्यान रखें। 

किसी भी प्रकार की अन्य जानकारी या किसी भी प्रकार के  Doubt के लिए  कृपया कमेंट करें।